रजवाहे कटा तो पानी में समा गई लाखों की फसल

waterसिचांई विभाग की निष्क्रियता के चलते दो दिन बाद भी विभागीय अधिकारियों ने कटें हुए रजवाहें की सुध नही ली है। किसानों की लाखों रूपये की लगभग 75 बीघा फसल बर्बाद करने के बाद रजवाहें का पानी खेतो से घरों में भी पहुंचने लगा है। पीड़ित गुस्सायें ग्रामीणों ने सिचांई विभाग के विरूद्ध जमकर नारेबाजी कर हंगामा प्रदर्शन किया है।

गुलावठी में शनिवार को गांव सोहनपुर-छपरावत रजवाहा गांव चिड़ावक में कट जाने से रजवाहे का पानी खेतों में चला गया था। रजवाहा कटने से गांव चिड़ावक निवासी लगभग 2 दर्जन किसानों की 61 बीघा गेंहू व 15 बीघा आलू की फसल जलमग्न हो गयी।

रजवाहें कटने के दो दिन बाद भी सिचांई विभाग का कोई भी अधिकारी व कर्मचारी रजवाहें की सुध लेने नही पहुंचा है। ग्रामीणों ने बताया कि रजवाहें के कट जाने के बाद किसानों ने स्वयं ही जेसीबी मशीन बुलाकर रजवाहें के कटान को रोकने का प्रयास किया, लेकिन किसानों को सफलता नही मिली।

रजवाहें का पानी लगाकर फसलों को बर्बाद कर रहा है। यही नही रजवाहें का पानी ग्राम चिड़ावक के ग्रीमणों में घर में भी पहुंचने लगा। जिससे गांव में स्थित कच्चें मकानों की ढहने की संभावना को नकारा नही जा सकता।

रविवार को सिचांई विभाग के रवैयें को लेकर ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। ग्रामीणों ने सिचांई विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया।

Advertisements

One thought on “रजवाहे कटा तो पानी में समा गई लाखों की फसल

  1. All those responsible for this negligence should be taken to task and companstion be paid to poor farmers to make the losses good .

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s