गुस्साए किसानों ने हाइवे किया जाम, प्रदर्शन

kisan

बुलंदशहर। कृभकों सेवा केन्द्र पर खाद का वितरण न होने से गुस्सायें किसानों ने हाइवे पर जाम लगा नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। हाइवें पर जाम लगने के कारण यातायात व्यवस्था ठप्प हो गयी। मौके पर पहुंची पुलिस ने खाद वितरण करायें जाने आश्वासन दे किसानों को शांत कर जाम खुलवाया।

गुलावठी में कृभकों सेवा केन्द्र खाद का वितरण न होना किसानों की समस्या बढ़ती ही जा रही है। सोमवार को जब निर्धारित समय पर कृभकों सेवा केन्द्र पर ताला लटका रहा तो किसानों को गुस्सा फूट गया।

किसानों ने हाइवे पर एकत्र होकर हाइवें पर जाम कर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। किसानों का आरोप है कि केन्द्र संचालक खाद की बाजार में काला बाजारी कर रहे है। तथा केन्द्र को न खोलकर किसानों को बाजार से खाद खरीदने पर मजबूर कर रहे है।

केन्द्र संचालक की मिली भगत से बाजार में काला बाजारी का खाद खुले आम बिक रहा है। किसानों को निर्धारित मूल्य से अधिक कीमत पर खाद खरीदना पड़ रहा है।

किसानों का दावा है कि गेंहू की फसल को खाद की आवश्कता है, यदि समय पर गेंहू की फसल में खाद का छिड़काव नही किया गया तो गंेहू की फसल प्रभावित हो सकती है।

लगभग 2 घंटे बाद भी जब खाद केन्द्र पर कोई अधिकारी नही पहुंचा तो किसानों को गुस्सा और उग्र हो गया। देखते ही देखते हाइवे पर वाहनों की लम्बी लाइन लग गयी। यातायात व्यवस्था ठप्प हो गयी।

मामले की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने गुस्सायें किसानों को खाद का वितरण करायें जाने का आश्वासन दे लोगो को शांत कराया।

वही केन्द्र संचालक रामबल सिंह ने बताया कि केन्द्र पर खाद का तो स्टॉक है, लेकिन कर्मचारियों की कमी होने के कारण तथा किसानों की संख्या अधिक होने कारण खाद का वितरण नही हो पा रहा है।

उन्होने दावा किया कि खाद का वितरण करायें जाने के लिए पुलिस की सुरक्षा मांगी गयी थी, लेकिन पुलिस सुरक्षा न मिलने के कारण निर्धारित समय पर खाद का वितरण नही हो सका है।

प्रदर्शन में राजकुमार तेवतिया, संदीप चौधरी, रामवीर सिंह, प्रेमपाल तेवतिया, हरिओम डागर, सुहेल खान, सतवीर सिंह, ओमवीर सिंह, राजपाल तेवतिया, असलम खान, मौ.दानिश, समीर, इमरान खान, संदीप, शान मौहम्मद, जमीर, जब्बार, रामचरन सिंह, अलताफ, जीमल, जमालुददीन, नसीहत खान, उस्मान, हंसराज, वीरपाल सिंह, ईश्वर, राशिद, सगीर, मौ.हनीफ, वीर सैन, श्रीपाल, शाकिर, शहरोज आदि मौजूद रहे।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s