नमूने फैल होने के बाद भी नहीं हो रही टाइल्स मालिकों पर कार्रवाई

nagrpalika03

बुलंदशहर। बुलंदशहर की जिलाधिकारी के निरीक्षण के बाद देश-दुनियां में बदनाम हुई जिले की टाइल्स कारोबार लैबोरेटरी के मानकों पर भी फेल हो गया है। जिले की कई फैक्ट्रियों की इंटरलॉक टाइल्स 36 फीसदी तक अधोमानक पायी गयी है। इतना ही नहीं नगर पालिका के जिन विकास कार्यो में न टाइल्स का इस्तैमाल हुआ उनके नमूने भी लेबोरेटरी में फेल हो गए है।

हैरत की बात यह है कि जिलाधिकारी की जांच रिपोर्ट पर शासन में बैठे अफसरों ने कार्रवाई के बजाय धूल डाल रखी है। जिन फैक्ट्रियों की टाइल्स के नमूने फेल हुए है उनमें बुलंदशहर की नगरपालिका चेअरमैन पिंकी गर्ग के पति और कई सभासदों की कारोबारी साझेदारी है।

11 दिसम्बर को जिलाधिकारी बी.चन्द्रकला ने नगरपालिका के विाकस कार्यो के निरीक्षण के दौरान घटिया टाइल्स को पकडा था। मौके पर हुए रियलिटी चैक में एक ही चोट में टाइल्स चूर-चूर होकर बिखर गयी। शासन और प्रशासन की टीमो ने इनके नमूने जांच के लिए भेजे थे।

2 महीने बाद आयी जांच रिपोर्ट विकास कार्यो में लगी टाइल्स और फैक्ट्रियों पर मौजूद टाइल्स के सारे नमूने फेल हो गए है। ये टाइल्स बीजेपी नेता और सभासदों की फैक्ट्रियों में बन रही थी। जिस पर लखनऊ की लेबोरेटरी ने अपनी मुहर लग दी।

सवाल यह है कि जिस बेहतरीन कार्य के लिए मुख्यमंत्री ने डीएम की तरीफ की, उस मामले के दोषियों को शासन में बैठे अफसर आखिर क्यों बचा रहे है।

नगर पालिका क्षेत्र में करीब 10 करोड रूपए की लागत से इंटरलॉक टाइल्स की सडके बिछायी गयी। सरकार के खजाने से आयी दौलत को हडपने के लिए नगर पालिका चेअरमैन पिंकी गर्ग के पति और बीजेपी नेता हितेश गर्ग ने अपने साझेदार आबिद के साथ मिलकर आनन-फानन में इंटरलोक टाइल्स की फैक्ट्री खोली और सारा माल नगर पालिका में खपा डाला।

इतना ही नही पालिका के कई बीजेपी सभासद और महिला सभासदों के पतियों ने भी इसी कारोबार में हाथ आजमा कर सरकार की दौलत को लूट डाला। जिला प्रशासन निरीक्षण के बाद इस मामले मे घटिया टाइल्स से सडके बनवाने वाले ठेकेदारों पर पहले ही केस दर्ज करा चुका है।

बीजेपी नेता और बुलंदशहर नगर पालिका की चेअरमैन पिंकी गर्ग पर करीब एक करोड रूपए की वित्तीय धांधली करने के चार्ज लगे है। करोडो के सामान की खरीद में दलाली खाने और टेंडरों में अनियमितताऐं बरतने के आरोप भी पिंकी गर्ग पर है। ऐसे में समाजवादी पार्टी की सरकार में बैठे अफसर बीजेपी की भ्रष्ट नेता को बख्स कर जनता के बीच आखिर क्या संदेश देना चाहते है।

एडीएम आरके सिंह ने बताया कि जांच रिपोर्ट में सारे नमूने फैल हो गए है। इन फैक्टियों की टाइल्स का इस्तेमाल सरकारी विकास कार्यो में रोक दिया गया है। जिन ठेकेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था उन पर अब आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जायेगी।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s