सोशल मीडिया पर छाई पुलिस की ‘ये कैसी होली’

police-holi-03

बुलंदशहर। पिता के संस्कार पुत्र में होते है। लेकिन अनुशासित कहे जाने वाले पुलिस महकमे में कानून के पहरूये न तो ऐसी सोच रखते है और न ही अपने बड़े अफसरों से कुछ सीख लेने की उनमें इच्छा है। प्रेम और स्नेह के त्यौहार पर पुलिस के सिपाहियों की सोशल मीडिया पर आई तस्वीरें बुलंदशहर के एसएसपी अनंतदेव तिवारी की शान और समाज के बीच उनकी मुहिम में बट्टा लगाती हुई दिख रही है।

जिले में आजमखान के कार्यक्रम के चलते पुलिसलाइन में होली के एक दिन बाद होने वाला परंपरागत होली मिलन होली के एक दिन पहले ही आयोजित किया गया। एसएसपी अनंतदेव तिवारी और जिले के बड़े पुलिस अफसरों ने इस आयोजन पर पुलिस की गरिमा और अनुशासन का खासा ख्याल रखा। अबीर-गुलाब से होली खेली गयी और बड़ी सादगी और स्नेह से पुलिस परिवार के लोगो ने आपस में और समाज के लोगो को होली की बधाईयां बांटी।

police-holi-02

लेकिन एसएसपी की सादगी और पुलिस की गरिमा को ताक पर रखते हुए कोतवाली सिटी में ‘मदमस्त’ पुलिसवालों ने कपड़ा फाड़ होली खेली। ये होली कोतवाली सिटी के प्रांगण में दिन के उजाले में खेली गयी। करीब 2 घंटे तक चली इस ‘अराजक’ होली के दौरान थाने के सामने गुजरने वाले राहगीर और थाने में अपनी फरियाद लेकर आने वाले शिकायती..सभी गायब रहे। थाना प्रांगण में नाचते-झूमते पुलिसवालों ने वर्दी की मर्यादा को ताक पर रख दिया। अराजकता का आलम यह था कि अनुशासन औऱ व्यवस्था के लिए नजीर कानून के इस मंदिर में कई पुलिसवाले शराब के नशे में भी झूमते दिखे।

police-holi-01

होली मनाना अपराध नही, हमारी संस्कृति और समाज की परंपरा है। लेकिन जिस महकमे से तहजीब की उम्मीद रखी जाती है, वहीं इस तरह की हरकतें आखिर क्यों होती है। खासकर के तब, जब जिले में अनंतदेव तिवारी जैसे अधिकारी जनता और पुलिस के बीच के पुल को पाटने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाये हुए हो। पुलिसवालों की इन तस्वीरों से पुलिस की छवि तो दागदार होती ही है, अफसरों की साख पर बट्टा भी लगता है और कम्युनिटी पुलिसिंग की उस मुहिम पर भी सवाल खड़ा होता है, जिसके तहत पुलिस के सिपाही को ‘जनता का आदर्श’ बनाकर पेश किया जा रहा है। खुद एसएसपी अनंतदेव तिवारी ने होली से ठीक पहले जिले में एक लिखित संदेश प्रसारित कराया था जिसमें समाज के सभी सम्प्रदायों को सादगी और प्रेम से होली खेलने की नसीहत दी गयी थी। मगर अफसोस कि अफसरों के संदेश बाँटने वाले पुलिसवाले खुद उसे आत्मसात नही कर पाये।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s