‘आंदोलन’ से यूपी फतह करेगें बीजेपी प्रेसीडेंट अमित शाह

05

बुलंदशहर। 2017 विधानसभा चुनाव को फतह करने की तैयारी के तहत शुक्रवार को बुलंदशहर में सदस्यता अभियान की समीक्षा करने पहुँचे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह यूपी के सुलगते हुए मुद्दों से रूबरू हुए। जाट आरक्षण, भूमि अधिग्रहण बिल और हिन्दुत्व को हासिए पर डालने से पैदा हुई समस्याओं को बीजेपी नेता और कार्यकर्ताओं ने बीजेपी अध्यक्ष के सामने रखा।

इन समस्याओं का सामना करने के लिए अमित शाह ने भाजपाईयों को जनता की चौखट तक जाकर आंदोलन छेड़ने का फार्मूला दिया है। 2017 में यूपी विजय के लिए प्रदेश में अब सदस्यता अभियान का टारगेट 2 करोड़ कर दिया गया है।

02

नरेन्द्र मोदी के मीठें भाषण सुनने में तो अच्छे लगे, लेकिन जमीन पर काम करने वाले बीजेपी कार्यकर्ताओ के सामने अब मुसीबत आन पड़ी है। भूमि अधिग्रहण बिल, जाट आरक्षण पर सुप्रीमकोर्ट का फैसला और पार्टी का मूल ऐजेंडो को पीछे छोड़ना प्रदेश में बीजेपी के सदस्यता अभियान में रोड़ा बन रहा है।

आज बुलंदशहर में सदस्यता अभियान की नब्ज टटोलने पहुँचे अमित शाह के सामने बीजेपी नेताओं ने अपना दुखड़ा रोया। करीब दो घंटों तक नेताओं की समस्याओं को सुनने के बाद अमित शाह ने सब मर्जो की एक दवा भाजपाइयों को सुझायी है।

01

अमित शाह ने कहा है कि विरोधी जिन मुद्दों को सरकार की राह का रोड़ा बना रहे है, भाजपाई गाँव-गाँव, घर-घर जाकर जनता को पार्टी के रवैये से वाकिफ कराये। फार्मूला एकदम सीधा है, केन्द्र सरकार की उपलब्धियों को जनता तक पहुँचाइये और राज्य सरकार के खिलाफ जो मुद्दा हो उसे प्रदेश सरकार का पूतला फूक कर, आंदोलन के जरिए जनता के बीच जाकर भुनाइये।

भूमि अधिग्रहण बिल पर बीजेपी का स्टेंड साफ करते हुए अमित शाह ने कहा कि पार्टी अधिग्रहीत जमीन को ग्राम आधारित उद्योगो के इस्तैमाल में लायेगी और जमीन का अधिग्रहण और बिक्री राज्य की डवलपमेंट ऐजेंसियों के जरिए होगी। उन्होने कहा कि जाट आरक्षण सबसे पहले प्रदेश की रामप्रकाश गुप्त सरकार लायी थी।

कांग्रेस सरकार ने वोट के लालच की जल्दबाजी में इस कानून के तकनीकी पहलुओं को अनदेखा किया जिसकी वजह से सुप्रीमकोर्ट ने आरक्षण खत्म कर दिया है। बीजेपी इस मुद्दो से संबधित एक किताब हर गाँव की चैपाल तक ले जायेगी और मुद्दों की तकनीकी और जमीनी हकीकत को जनता के बीच रखेगी।

03

2017 में यूपी जीतने के संकल्प के साथ अमित शाह ने सदस्यता अभियान से जुड़े 250 पदाधिकारियों को आह्वान किया कि बीजेपी से लोगो को जोड़िये। इसके अलावा प्रदेश की बिगड़ती कानून-व्यवस्था, गन्ना का रूका हुआ भुगतान, ओलावृष्टि और बारिस से बर्बाद फसलें और बदतर किसान, आजम खाँ को तानाशाह बनाने के लिए मेयरों के अधिकार खत्म करने का कानून बनाने की साजिश और समाजवादियों के गढ़ वाले जिलों में बिजली चोरी जैसे मुद्दों पर जनता को साथ लेकर प्रदेश में बड़ा आंदोलन खड़ा करना अब भाजपाइयों की रणनीति है।

प्रदेश में बीजेपी के सदस्यता अभियान पर संतोष जाहिर करते हुए अमितशाह ने नेता और कार्यकर्ताओं को बधाई दी है। अमित शाह की रणनीति से बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में विरोधियों का सूपड़ा-साफ कर दिया था। जाहिर है, अगर अखिलेश सरकार ने वक्त रहते अपने मोहरे दुरस्त नही किये तो विधानसभा चुनाव से ठीक दो साल पहले फिर से प्रदेश में सक्रिय हुए अमित शाह समाजवादी सरकार और बीएसपी पर भारी पड़ सकते है।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s