जर-जमीन के लिए हत्यारा बना मामा, भांजे को गोलियों से भूना

बुलंदशहर सिटी में जमीन और रूपयों की रंजिश में मामा ने अपने सगे भांजे को गोलियों से भूनकर मार डाला। अपना तकादा करने पहुँचे भांजे को मामा ने घर की छत से ही पॉच गोलियां मारी और उसे सड़क पर ढेर कर दिया। मामा की साजिश में मृतक की पत्नी भी शामिल है जो हत्यारे की सगी साली है। पुलिस ने हत्यारे मामा, उसकी पत्नी और मृतक की पत्नी समेत चार लोगो के खिलाफ केस दर्ज किया है।
एएसपी अभिषेक यादव (आईपीएस) ने बताया कि कोतवाली सिटी के प्रीतिबिहार निवासी भट्टा व्यवसायी प्रदीप चौधरी की शादी अपने सगे मामा सत्यपाल की साली रेनू से हुई थी। इस रिश्ते से प्रदीप अपने मामा का साढू भी था। रेनू और प्रदीप के 3 बच्चे है और वह सिकन्द्राबाद के प्रानगढ़ से करीब 5 साल पहले बुलंदशहर सिटी में आकर बस गये थे। मामा और भांजे की बीच रिश्तों की प्रगाढ़ता के चलते ही प्रदीप ने अपने मामा को अपने भट्टे पर मुनीम बनाया था। लेकिन रिश्तों को ताक पर रखकर सत्यपाल ने प्रदीप के 12 लाख रूपये की बेईमानी कर ली और भट्टे की नौकरी से हट गया। प्रदीप ने जब सत्यपाल से अपने पैसे वापस मांगे तो सत्यपाल ने प्रदीप और उसकी पत्नी रेनू के बीच मकान बेचने को लेकर झगड़ा करा दिया। रेनू आजकल अपने बच्चों को लेकर सत्यपाल के घर रह रही थी।

mudder

26-27 जुलाई की रात प्रदीप अपने घर के निकट सूर्यनगर स्थित सत्यपाल के घर तकादा करने पहुँचा और उसने सत्यपाल से घर का दरवाजा खोलने को कहा। जब सत्यपाल ने दरवाजा नही खोला तो प्रदीप ने सड़क से ही सत्यपाल और अपनी पत्नी को लेकर गाली-गलौज शुरू कर दी। शोर सुनकर आसपास के लोग भी अपने घरों से निकल आये। प्रदीप ने जब गाली-गलौज जारी रखी तो सत्यपाल घर की छत पर बालकनी में अपनी राइफल के साथ आया और उसने प्रदीप को निशाना बनाकर एक-एक करके उसे 5 गोलियां मारी। प्रदीप वहीं गिर पड़ा और उसकी मौत हो गयी।

प्रदीप की मौत के बाद उसकी पत्नी ने 100 डायल पर सूचना दी कि प्रदीप ने तमंचे से खुदकशी कर ली है। मौके पर पहुँची पुलिस ने प्रदीप के पास से एक तमंचा भी बरामद किया है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। प्रदीप के भाई ने अपनी भाभी रेनू, मामा सत्यपाल, मामी मीनू और रेनू के भाई सुमित को हत्या के मामले में आरोपी बनाते हुए पुलिस को तहरीर दी है जिस पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। एसएसपी अनंतदेव तिवारी ने बताया कि आरोपियों कि गिरफ्तारी के लिए एसपी क्राइम ने अपनी एक टीम और थाना पुलिस की तीन टीमें दबिशें दे रही है। जल्द ही हत्यारे कानून के शिकंजे में होगे।

रूपयों के बाद मकान हड़पने की थी साजिश
प्रदीप का प्रीति बिहार स्थित करोड़ो रूपये का मकान प्रदीप की पत्नी के नाम है। प्रदीप के भट्टा कारोबार में 12 लाख का घपला करने के बाद सत्यपाल चाहता था कि वह रेनू को बहकाकर प्रदीप का मकान बिकवा दे और उससे मिलने वाली रकम को वह डकार जाये। रेनू को उसने मानसिक रूप से इसके लिए तैयार भी कर लिया और पति-पत्नी के बीच झगड़ा भी शुरू करा दिया था। प्रदीप के पड़ौसियों की मानें तो पिछले कई महीनों से दोनो के बीच का झगड़ा कई बार घर के बाहर तक आ गया और पड़ौसियों को बीच-बचाव कराना पड़ा।

हत्या में प्रयुक्त राइफल के साथ सत्यपाल फरार
सत्यपाल के पास अपनी लायसेंसी राइफल है। प्रदीप के गाली-गलौज को सत्यपाल ने अपनी प्रतिष्ठा से जोड़कर देखा और फिर उसी जुनून में राइफल से गोली चलाकर प्रदीप की हत्या कर दी। वारदात के बाद से सत्यपाल के घर पर ताला पड़ा हुआ है और वह हत्या में प्रयुक्त राइफल के साथ फरार है। पुलिस उसे तलाश रही है।

प्रदीप का बेटा भी सत्यपाल के चंगुल में
पुलिस ने प्रदीप की पत्नी रेनू को दर्ज किये केस के आधार पर हिरासत में ले लिया है। लेकिन प्रदीप का इकलौता बेटा सत्यपाल के चंगुल में है। दरअसल, हत्या के वक्त रेनू अपने बच्चों के साथ सत्यपाल के घर पर थी। वारदात के बाद बाकी सारे लोग फरार हो गये, लेकिन रेनू अपनी दो बेटियों के साथ यह सोचकर वहीं रूक गयी कि उसका इस हत्याकांड में कोई हाथ नही है। फरारी के वक्त सत्यपाल प्रदीप के बेटे को अपने साथ ले गया है जिससे वह प्रदीप के परिजनों पर दबाब बना सके।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s