शिक्षक ही निकला शिक्षक का हत्यारा, तीन अरेस्ट

बुलंदशहर। शिक्षक नेता अजय शर्मा की हत्या का खुलासा करते हुए स्याना पुलिस ने मृतक के विरोधी शिक्षक नेता और दो शिक्षामित्रों को गिरफ्तार किया है। शिक्षक नेता अजय शर्मा की हत्या का कारण बेसिक शिक्षा विभाग में बरसों से जमा उसका रूतबा था, जिसके चलते उसने अधिकारियों से मिलकर शिक्षक पुष्पेन्द्र और उसके गुट के लोगो को निशाना बना रखा था। तीनों शिक्षकों ने मिलकर सुपारी किर्लर को हायर किया और अजय शर्मा की हत्या करा दी। पुलिस ने एक शिक्षक नेता और दो शिक्षामित्रों को अरेस्ट किया है।पुलिस ने बताया कि दोनो सुपारी किर्लर अभी फरार है, जिन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

बेसिक शिक्षा विभाग में पुष्पेन्द्र सरकारी शिक्षक है, लेकिन पुष्पेन्द्र का किरदार बेसिक शिक्षा विभाग में एक माफिया के तौर पर है। पुष्पेन्द्र के सामने पनप रहे शिक्षक नेता अजय शर्मा को उसके बढ़ते रूबते की वजह से कत्ल करा दिया। इस कत्ल के लिए उसने मेरठ के दो शार्प शूटर्स को 2 लाख रूपये की सुपारी दी। इस हत्याकांड में पुष्पेन्द्र की छत्रछाया में रहने वाले दो शिक्षामित्र भी शामिल थे जिनमें से एक पुष्पेन्द्र की महिलामित्र पारूल शर्मा है।

master

क्या था मामला
31 जुलाई की सुबह शिक्षक नेता अजय शर्मा स्कूल जा रहे थे। तभी नयाबांस गांव के पास बाइक सवार सुपारी किर्लर ने अजय शर्मा की बाइक के सामने जाकर उन्हें गोली मार दी। बदमाश हवाई फायरिंग करते हुए वारदात स्थल से फरार हो गए थे। घटना स्थल पर पहुंचे लोगों ने अजय शर्मा को उठाया और अस्पताल ले जातो समय शिक्षक नेता अजय शर्मा ने रास्ते में ही दम तोड दिया था। शिक्षक नेता अजय शर्मा की हत्या होने के बाद गुस्साये ग्रामीणों ने बुलंदशहर-स्याना मार्ग पर जाम लगाकर हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए प्रदर्शन भी किया था। एसएसपी अनंतदेव तिवारी ने हत्यारों की जल्दी गिरफ्तारी का आश्वासन ग्रामीणों को देकर जाम खुलवाया था।

राजनीतिक लडाई थी शिक्षकों में
पुष्पेन्द्र और अजय शर्मा दोनो ही प्राथमिक शिक्षक संघ के नेता थे और स्याना ब्लाक में बीएसए महेशचन्द्र ने दोनो को एबीआरसी का चार्ज भी दे रखा था। अजय शर्मा बीएसए के मुँहलगा था, इसलिए पुष्पेन्द्र के मुकाबले उसके सारे आड़े-तिरछे काम बीएसए कर दिया करते थे। अजय शर्मा के इशारे पर बीएसए ने कई बार पुष्पेन्द्र को ट्रांसफर किया। इसके अलावा उसके गुट के शिक्षामित्र और शिक्षकों को भी परेशान किया जाता था। पुष्पेन्द्र का जब अपनी पहली पत्नी से अलगाव हुआ तब भी अजय शर्मा ने पुष्पेन्द्र को निशाना बनाया। अपने कमजोर होते सियासी कद और अजय शर्मा के उसके कार्यक्षेत्र और जीवन में दखल के चलते उसने अजय शर्मा को खत्म करने का फैसला किया। उसके इस फैसले में उसकी महिलामित्र और एक स्कूल में शिक्षामित्र पारूल शर्मा और शिक्षामित्र कुलदीप चौहान शामिल थे।

हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा
एसएसपी अनंतदेव तिवारी ने बताया कि 31 जुलाई की सुबह शिक्षक नेता अजय शर्मा की हत्या कांड का खुलास करने के लिए क्राइमब्रांच की दो टीमों को लगाया गया था। मृतक के घरों वालो ने एक शिक्षा नेता का नाम पुलिस को बताया था। क्राइमब्रांच ने मृतक शिक्षक नेता अजय शर्मा की पुरानी रंजिशों के बारे में घहराई से जांच पड़ताल की। जांच में शिक्षक नेता पुष्पेन्द्र निवासी लाडपुर, कुलदीप चैहान निवासी भैसोडा व पारूल शर्मा निवासी देहरा का नाम सामने आया, जिन्हें पुलिस ने 3 अगस्त को गिरफ्तार कर लिया।

सुपरी किर्लरों को किया था हायर
पुष्पेन्द्र ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि मृतक अजय शर्मा से वह और दो शिक्षामित्र काफी परेशान थे। उनसे ने दोनो शिक्षामित्रों से 50-50 हजार रूपए लेकर अपने ही गांव के सुपारी किर्लर परवेन्द्र उर्फ लॅगडा को शिक्षक नेता अजय शर्मा की हत्या करने के लिए2 लाख की सुपारी दे दी। पुष्पेन्द्र ने पुलिस को बताया कि उसने परवेन्द्र को 61 हजार रूपए का एडवॉस दे दिया। 31 जुलाई की सुबह पुष्पेन्द्र के इशारे पर परवेन्द्र ने आपने एक साथी के साथ मिलकर अजय शर्मा को गोली मार दी। वारदात स्थल पर हवाई फायरिंग करते हुए फरार हो गए।

क्या कहते है अधिकारी
एसएसपी अनंतदेव तिवारी ने बताया कि शिक्षक नेता अजय शर्मा और पुष्पेन्द्र में शिक्षक राजनीति को लेकर काफी से विवाद चल रहा था। पुष्पेन्द्र गुट के शिक्षामित्र और शिक्षकों को भी अजय शर्मा परेशान किया करता था। अपने कमजोर होते सियासी कद और अजय शर्मा के उसके कार्यक्षेत्र और जीवन में दखल के चलते उसने अजय शर्मा को खत्म करने का फैसला किया। उसके इस फैसले में उसकी महिलामित्र और एक स्कूल में शिक्षामित्र पारूल शर्मा और शिक्षामित्र कुलदीप चौहान शामिल थे। एसएसपी ने बताया कि इन तीनों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है। इस मामले में दोनो शूटर्स की तलाश जारी है। क्राइम ब्रांच और थाना पुलिस की एक टीम उनका सुराग तलाश कर उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लेगी।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s