‘कादरी के ताज’ पर इश्कियां हुए सीएम अखिलेश

taj

बुलंदशहर। कभी शाहजहां ने आगरा में ताजमहल बनवाया था, अब फैजुल हसन कादरी ने अपनी महरूम बेगम की याद में ताजमहल बनवाया है। लेकिन ताजमहल की तामीर पूरा होने से पहले ही कादरी की जमापूँजी निबट गयी। उत्तर-प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कादरी के ताजमहल को पूरा करने में दिलचस्पी दिखाई है और उन्हें लखनऊ आने का न्यौता दिया है।

ताजनगरी आगरा से 130 किमी दूर बुलंदशहर के कसेर कलाँ गाँव में 80 बरस के कादरी ने अपनी उस मरहूम बेगम की याद में ताजमहल बनबाया है जिसे वह बेइन्तेहा प्यार करते थे। कादरी ने इस ताजमहल को बनवाने में अपनी जिंदगी की सारी जमापूँजी करीब 23 लाख रूपये खर्च कर दिये। लेकिन ताजमहल का ढाँचा संगमरमरी हो पाता उससे पहले ही उनकी रकम खत्म हो गयी।

taj-2

2012 में की थी शुरूआत
2012 से कादरी ने अपने घर के पास बने खेत में ताजमहल बनवाने की शुरूआत की थी। कादरी ने इस इमारत के निर्माण में स्थानीय राजमिस्त्रियों से काम कराया। ताजमहल की तस्वीर से प्रेरणा लेकर कादरी ने अपनी पत्नी तजुम्मली बेगम के मकबरे को शक्ल दी तो लोग इसे ताजमहल कहने लगे। इस ताजमहल की चर्चाऐं देश-प्रदेश से लेकर सात समंदर पार तक पहुँची और इसे चाहने वाले सैलानी और विदेशी पत्रकार यहाँ आने लगे।

taj-5

संगमरमर के लिए जोडे 74 हजार
2014 में कादरी के पास जब रूपये खत्म हो गये तो उन्होने इस इमारत पर संगमरमर लगवाने के लिए अपनी 10 हजार रूपये की पैंशन में से रकम जुटानी शुरू की। पेट भरने के बाद जो रूपये पैंशन में से बचते है उन्हें जोड़कर कादरी ने अब तक 74 हजार रूपये जमा किये है। लेकिन ताजमहल को संगमरमरी होने में करीब 10 लाख रूपये का खर्चा आयेगा।

सीएम ने भेजा न्यौता
15 अगस्त को जब मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आगरा के ताजमहल के प्रमोशन के लिए ट्वटिर प्रोफाइल जारी किया तो उन्हें कादरी के ताजमहल की जानकारी दी गयी। मुख्यमंत्री ने बुलंदशहर की जिलाधिकारी बी0 चन्द्रकला के जरिये कादरी को लखनऊ आने का न्यौता दिया है।

taj-5
क्या कहते है फैजुल हासन
फैजुल हसन कादरी ने बताया कि स्थानीय प्रशासन के अफसरों ने आज उन्हें मुख्यमंत्री का न्यौता दिया है। रविवार 23 अगस्त को मुख्यमंत्री मुझसे मिलेगे। मुझे उम्मीद है कि अब ताजमहल को पूरा करने का मेरा ख्वाब हकीकत हो सकेगा।

क्या कहते है अधिकारी
जिलाधिकारी बी0 चन्द्रकला ने बताया कि मुख्यमंत्री ने उन्हें कादरी को उनसे मिलवाने की जिम्मेवारी दी है। बुलंदशहर के ताजमहल को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की कोशिशों से देश-विदेश में पहचान मिलेगी और इस ताजमहल के पूरा होने के बाद सैलानियों के पर्यटन के लिए भी इसे खोला जा सकेगा।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s