प्रेमिका की ख्वाहिशें पूरी करने के लिए डाली करोड़ों की डकैती

बुलंदशहर। प्रेमिका की ख्वाहिशों को पूरा करने के लिए एक हिस्ट्रीशीटर ने बुलंदशहर में महीने भर पहले तीन करोड़ दस लाख रूपये की दिनदहाड़े डकैती डाली। लेकिन वारदात के बाद पुलिस के दखल ने लुटेरों की ख्वाहिशें चूर-चूर कर दी। बदमाशों को अपनी जान बचाना मुश्किल पड़ गया और वह लूटा गया माल छोड़कर भाग गये। बुलंदशहर पुलिस ने खुर्जा में मीट कारोबारी से हुई 3 करोड़ दस लाख रूपये की डकैती का खुलासा करते हुए चार बदमाशों को असलाहों समेत गिरफ्तार किया है। इस वारदात को अंजाम देने के लिए हिस्ट्रीशीटर गैंगलीडर ने डेढ़ साल तक मीट कारोबारी की रेकी की थी।
loter
बुलंदशहर के खुर्जा सिटी में 19 सितंबर को दिनदहाड़े असलाहों के बल पर 3.10 करोड़ की रकम लूट ली गयी थी। बदमाशों ने मीट कारोबारी के ड्राइवर को गोली मारकर ये रूपया लूटा और कारोबारी की फोर्च्यूनर गाड़ी लेकर फरार हो गये। वारदात के बाद जब पुलिस ने बदमाशों का पीछा किया तो लुटेरे फॉर्च्युनर गाड़ी और लूटा गया 2.93 करोड़ रूपयों से भरा बोरा खेत में छोड़कर फरार हो गये। पुलिस ने खुलासा किया है कि गैंगलीडर असरफ ने अपनी माशूका सुलताना की ख्वाहिशें पूरी करने के लिए दिनदहाड़े करोड़ो रूपये की डकैती डाली थी।

इस वारदात के सरगना असरफ के साथी आमिर ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि असरफ डेढ़ साल से मीट कारोबारी हाजी असलम की रेकी कर रहा था। दरअसल खुर्जा सिटी का हिस्ट्रीशीटर बदमाश असरफ सिटी की सुलताना से बेतहाशा इश्क करता था। उसकी मँहगी ख्वाहिशें पूरा करने के लिए उसने नोयडा, बुलंदशहर, गाजियाबाद और मेरठ में लूट की कई बड़ी वारदातें की है। पुलिस को पता चला है कि उसने हाल ही में सुल्ताना को नोयडा में फ्लैट और लक्जरी कार दिलाने का वायदा किया था। वह खुद को सुलताना के सामने बड़ा कारोबारी बताता था और सुलताना से शादी करना चाहता था।

एसएसपी अनंतदेव तिवारी ने बताया कि डकैती का माल हाथ में आने के बाद उस समय लुटेरों के इस गैंग की जान के लाले पड़ गये जब वारदात के बाद उनके पीछे पुलिस लगी थी और आगे से उन्हें गाँव के किसानों ने घेर लिया। असरफ और दानिश ने नोटों से भरे बोरे में से करीब सोलह लाख रूपये निकाले और गाड़ी और रूपयों का बोरा छोड़कर भाग गये।

दो साजिशें फेल होने के बाद बनाया गैंग-
असरफ ने डेढ़ साल तक हाजी असलम को लूटने के लिए उसकी रेकी की। जनवरी और फरवरी-2015 में उसने अपने दो साथियों के साथ मिलकर दो बार कैश ला रही कार पर अटैक किया, लेकिन सफल नही हो सके। इसके बाद असरफ ने खुर्जा के उम्रकैद सजायाफ्ता अपराधी आमिर और इलाके के आधा दर्जन बदमाशों के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम देने के लिए गैंग बनाया। हर एक गैंग मैम्बर को 30 से 50 लाख रूपये देने का वायदा किया गया था।

बैंक से मुखबिरी कर रहा था जहीर-
इस वारदात में सटीक सूचनाऐं देने के लिए खुर्जा सिटी के सलमाहकान इलाके के अपराधी जहीर को एचडीएफसी बैंक में तैनात किया गया था। जब खलील और जाकिर बैंक से रकम निकालकर बैंक से निकले तो जहीर ने फोन से वैगनार कार में सवार अपने साथी लुटेरों को सूचना दे दी।

वारदात में इस्तैमाल के लिए लूटी 2 कारें-
करोड़ो की डकैती को कामयाब करने के लिए इस गैंग ने पहले स्विफ्ट कार को खुर्जा इलाके से लूटा, लेकिन पुलिस से घिर जाने के बाद वे कार को छोड़कर भाग गये। इसके बाद गाजियाबाद के मोदीनगर इलाके से बदमाशों ने बैगनार कार लूटी और करोड़ो की डकैती में इस कार का इस्तैमाल किया।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s