चुनाव जीतने के लिए बीजेपी खराब कर रही है माहौल-सिददीकी

बुलंदशहर। बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुददीन सिददीकी ने मंगलवार को शिकारपुर के बालाजी गेस्ट हाऊस में एक सभा को सम्बोधित कर रहे थे। नसीमुददीन सिददीकी ने राममंदिर पर बोलते हुए कहा कि यह चुनाव का समय चल रहा है। चुनाव को जीतने के लिए बीजेपी राम मंदिर और गो मांस के ऊपर दादरी जैसे दंगे करवाकर मौहले खराब करना चाहती है। सिददीकी ने प्रधानमंत्री पर तंज कस्ते हुए कहा कि चुनाव के समय बीजेपी पाकिस्तानियों के सिर काटने की बात करती, लेकिन पीएम मोदी पाकिस्तान में जाकर दावत का मजा ले रहे है।

बसपा में शुरू हुआ परिवारवाद-
सियासत में परिवारवाद के लिए सपा, कांग्रेस और बीजेपी का विरोध करने वाली बीएसपी को भी यही बीमारी लग गयी है। हाथरस के निवासी बसपा सरकार के पूर्व मंत्री रामवीर के भाई मुकुल उपाध्याय को बुलंदशहर की शिकारपुर सीट से विधानसभा प्रत्याशी घोषित किया गया है। मुकुल से पहले इस सीट पर पिछले तीन साल से बुलंदशहर के देवेन्द्र भारद्वाज चुनाव की तैयारी कर रहे थे। ऐन वक्त पर देवेन्द्र का टिकट कटने से सकते में आये पार्टी समर्थको ने आज जब नसीमुद्दीन सिद्दीकी के सामने बगाबत के सुर छेड़े तो नेताओं के एक इशारे पर उन्हें पुलिस ने धर-दबोचा।

बसपा समर्थकों को पुलिस ने उठाया-
मुकुल उपाध्याय के विरोधियों को पुलिस द्वारा उठाने का कारण यह है कि इलाके के थानेदार शत्रुघन उपाध्याय मुकुल उपाध्याय के नजदीकी रिश्तेदार है। एक बुजुर्ग बसपा कार्यकर्ता को हिरासत में लेने पर जब शत्रुघन उपाध्याय से सवाल किया गया तो वह बगलें झांकते नजर आये।

बसपा में हो सकती है बगावत-
बसपा समर्थको के बागी बनने की ये केवल शुरूआत भर है। बगावत के अगले स्वर सिकन्द्राबाद सीट से गूँजेगे। जिला संगठन वहाँ से नसीमुद्दीन सिद्दीकी के पुत्र अफजल सिद्दीकी को विधानसभा प्रत्याशी बनाये जाने की संभावना जता रहा है। नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने आज कार्यकर्ता सम्मेलन में अपने पुत्र को जनता से रूबरू कराया तो ये संभावना और पक्की हो गयी। हॉलाकि खुद नसीमुद्दीन सिद्दीकी इस परिवारवाद के पक्ष में नही है।

बेटे को चुनाव लड़ाने का नही कोई इरादा-
नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने बताया कि उन्होने मायावती के कहने पर अपने बेटे को लोकसभा चुनाव में उतारा था। फिलहाल उनका इरादा उसे चुनाव लड़ाने का नही है। लेकिन चुनाव अभी दूर है। मुकुल उपाध्याय की उम्मीदवारी के विरोध के मुद्दे पर उन्होने कहा कि देवेन्द्र भारद्वाज को संगठन में जगह दी जायेगी। लेकिन नसीमुद्दीन देवेन्द्र भारद्वाज का टिकट काटने की कोई पुख्ता वजह नही बता सके।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s