शेल्टर होम का संचालक ही नहीं पूरा परिवार था यौनशोषण में शामिल

बुलंदशहर. लक्ष्मी अल्पावास गृह में देह व्यापार के खुलासा होने के बाद, एक नया खुलासा हुआ है। पीडि़त संवासिनी की माने तो लक्ष्मी अल्पावास गृह के संचालक और संचालक के पिता व पत्नी भी संवासिनियों पर अत्याचार करते थे। पीडि़ता का आरोप है कि संचालक के पिता उन्हें जापानी तेल दिखाते थे।

यौनशोषण, मारपीट और बेगारी कराने के आरोप-
पीडि़त संवासिनी ने बताया है कि सचिन वर्मा के शारीरिक संबध अल्पावास गृह की एक और संवासिनी से भी है जो जहाँगीराबाद सिटी की निवासी है। वह उसे सरेआम चूम लिया करता था और कभी भी उससे अश्लील हरकतें करता था। इसके अलावा सचिन वर्मा लोहे के रॉड से संवासनियों की पिटाई करता था। आरोप है कि संवासनियों के परिवार से सचिन वर्मा हर महीने रूपये वसूलता था।

संचालक का पिता दिखाता था जापानी तेल-
सचिव वर्मा के पिता और नवदीप एनजीओ के संरक्षण नरेश वर्मा की हरकतों का भी संवासिनी ने खुलासा किया है। उसने बताया कि नरेश वर्मा संवासनियों के साथ रजाई में बैठ जाता था और अश्लील हरकतें करता था। वह लड़कियों को जापानी तेल की शीशी भी दिखाया करता था।

संचालक की बीबी कराती थी बेगारी-
सचिव वर्मा की पत्नी और शेल्टर होम की वार्डन प्राची वर्मा भी संवासनियों की परदे की रॉड से पिटाई किया करती थी। वह अपने घर का काम भी संवासनियों से कराती थी और संवासनियों को नौकरानी बनाकर दूसरों के घरों में भेजा जाता था। पीडि़त का आरोप है कि दूसरों के घरों में काम के वक्त भी उनका यौन शोषण किया जाता था।

गहरी राजदार है शेल्टर हाउस की लिपिक-
प्रशासनिक जॉच में शेल्टर होम की लिपिक फिरोजा खान का नाम भी सामने आया है। अल्पावास गृह की सेविका से पुलिस ने न तो पूछताछ की और न ही उसे गिरफ्तार किया है। संवासिनी के बयानों में फिरोजा की भूमिका अल्पावास में चल रहे इस गोरखधंधे में सबसे अहम है। फिरोजा को एक-एक वारदात और संवासिनियों के शोषण की सारी जानकारी है और वह संवासनियों के यौन शोषण में एनजीओ संचालक के दाहिने हाथ के तौर पर काम करती थी।

सपा नेता पर अभयदान क्यों?
यौन शोषण के आरोपी संचालक सचिन वर्मा को जेल भेजे हुए 5 दिन हो चुके है। लेकिन इन 5 दिनों में पुलिस की तफ्तीश 5 कदम भी आगे नही बढ़ पायी है। सूत्र बताते है कि समाजवादी पार्टी के एक कद्दावर नेता के दबाब के चलते पुलिस-प्रशासन ने बाकी सब को बाद की तफ्तीश में शामिल कहकर पूरी तहकीकात को ठंडे बस्ते में डाल दिया है। जबकि इस मामले का खुलासा करने वाली संवासिनी ने संचालक सचिव वर्मा, उसके पिता नरेश वर्मा और शेल्टर होम का वार्डन प्राची वर्मा और एनजीओ की अध्यक्ष हेमा वर्मा पर बेहद गंभीर आरोप लगाये थे। संवासिनी ने आरोप लगाये थे कि एनजीओ से जुड़े लोग भी संवासनियों के साथ अश्लीलता और यौन शोषण करते है। बता दे कि सपा नेता शशांक भाटी की जिला प्रशासन और पुलिस के अफसरों में खासा दखल है। जिसकी वजह है समाजवादी पार्टी के कद्दावार सपा नेता जिसकी जिले में तूती बोलती है।

किसने क्या कहा-
आरोपी संचालक सचिन वर्मा की मां हेमा वर्मा ने कहा कि उनके बेटे के खिलाफ बड़ा षड़यंत्र किया जा रहा है। ये आपत्तिजनक फोटो भी उसी षड़यत्र का एक हिस्सा है। वह कोर्ट में सारे सबूत रखेगी।

सिटी मजिस्ट्रेट डीपी सिंह ने बताया है कि पुलिस तफ्तीश में चीजें साफ होगी और जो दोषी होगा उस पर पुलिस कार्रवाई करेगी। इसके अलावा उन्हें और कुछ नही कहना है।

एसपी सिटी राममोहन सिंह ने बताया कि किसी भी तरह का दबाब पुलिस के ऊपर नही है। पूरा केस स्पष्ट है। पूछताछ और बयानों की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और इसका असर भी दो-चार दिन में दिखने लगेगा। किसी भी दोषी को किसी भी सूरत में बख्शा नही जायेगा। संवासनियों की सुरक्षा भी सुनिश्चित की जा रही है।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s